‘कॉलर घसीटा, 10 मिनट पर थप्पड़ मारे और कार के डैशबोर्ड से लूटे 600 रुपये…’ लखनऊ गर्ल पर कैब ड्राइवर के आरोप

लखनऊलखनऊ में रोड रेज की घटना पर तीन युवकों के खिलाफ केस दर्ज करने के एक दिन बाद कैब ड्राइवर की पिटाई करने वाली युवती पर भी ऐक्शन लिया गया। वायरल वीडियो में युवती कैब ड्राइवर को थप्पड़ मारते नजर आई थी। युवती के खिलाफ लूट, चोट पहुंचाने और तोड़फोड़ का मामला दर्ज किया गया। शिकायतकर्ता कैब ड्राइवर ने अपनी तहरीर में आरोप लगाया कि युवती ने बिना गलती के उसे थप्पड़े मारे, उसका मोबाइल फोन तोड़ा और कार के डैशबोर्ड से 600 रुपये भी लूट लिए।

घटना 31 जुलाई को लखनऊ के अवध चौराहे की है जिसका वीडियो काफी वायरल हुआ। कुछ सोशल ऐक्टिविस्ट ने लड़की को बहादुर बताते हुए उसकी तारीफ की तो कुछ ने उसकी निंदा की और देखते ही देखते सोशल मीडिया पर #ArrestLucknowGirl ट्रेंड में रहा। शुरुआत में युवती ने आरोप लगाया था कि शख्स हाई स्पीड में कार चला रहा था और उसका ऐक्सिडेंट होते-होते बचा था। हालांकि घटना का वीडियो सामने आने के बाद काफी संख्या में लोगों ने यूपी पुलिस की आलोचना करते हुए युवती के खिलाफ कार्रवाई की मांग की।

सेंट्रल जोन के अडिशनल डेप्युटी कमिश्नर चिरंजीव नाथ सिन्हा ने बताया, लूट, युवती के खिलाफ चोट पहुंचाना और तोड़फोड़ की धाराओं के तहत केस दर्ज किय गया। तोड़फोड़ के चलते 50 रुपये या इससे अधिक की राशि का नुकसान हुआ। युवती की पहचान प्रियदर्शिनी यादव के रूप में हुई जो कृष्णा नगर के केसरी खेड़ा में रहती है।

पुलिस अधिकारी ने बताया कि वजीरगंज निवासी शहादत अली की शिकायत पर केस दर्ज हुआ है। शहादत और उनके साथ इनायत अली और दाऊद अली दोनों वजीरगंज में रहते हैं। इनके खिलाफ शांतिभंग करने का केस दर्ज हुआ था।

इसके बाद घटना के वायरल वीडियो में प्रियदर्शिनी भीड़ के सामने शहादत को कई बार थप्पड़ मारते, उसका फोन तोड़ते और कॉलर खींचते देखी गईं। आस-पास खड़े लोग घटना का वीडियो बनाते रहे और किसी ने भी बीचबचाव की कोशिश नहीं की और पुलिस भी पूरी घटना के वक्त मूकदर्शक बनी रही। अपनी शिकायत में शहादत ने आरोप लगाया कि युवती ने बिना गलती के उसे मारा, फोन छीना और तोड़ा, इतना ही नहीं कार के डैशबोर्ड में रखे 600 रुपये भी लूट लिए।

युवक ने अपनी शिकायत में कहा, युवती 10 मिनट तक मुझे थप्पड़ लगाती रही और पुलिस ने पिटाई करने वाली युवती का ही पक्ष लिया। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, शहादत ने शिकायत में दावा किया कि आरोपी युवती पुलिस की मुखबिर है। इसके अलावा ये भी आरोप लगाया कि पुलिस ने गिरफ्तार करने के अगले दिन उससे 10 हजार रुपये लिए और तब जाकर गाड़ी को छोड़ा था।

Go to Source