दुष्कर्म के दोषियों का बचना होगा मुश्किल, केंद्र ने राज्यों को दिए 14 हजार फोरेंसिक किट

नई दिल्ली, 19 सितम्बर (आईएएनएस)। दुष्कर्म के दोषियों का बचना अब मुश्किल होगा। केंद्र सरकार ने महिलाओं के साथ दुष्कर्म आदि यौन हमले की घटनाओं में सबूतों को जुटाने के लिए राज्यों को 14 हजार से ज्यादा फोरेंसिक किट उपलब्ध कराए हैं। जिससे दुष्कर्म जैसी घटनाओं की वैज्ञानिक तरीके से तेज जांच हो सकेगी। महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने ये फोरेंसिक किट निर्भया निधि से खरीद कर राज्यों को उपलब्ध कराया है। किट के इस्तेमाल से यौन हमलों के सबूत जुटाने में पुलिस को आसानी होगी।

दरअसल, बलात्कार जैसे मामलों में दोषियों तक पहुंचने के लिए घटनास्थल से लेकर अन्य सबूत काफी अहम होते हैं। पुलिस के पास फोरेंसिक किट के अभाव में कई बार जरूरी सबूत जुटाने में दिक्कतें होती हैं। जिससे कई बार दोषियों तक पहुंचना मुश्किल हो जाता है। ऐसे में महिला एवं बाल विकास कल्याण मंत्रालय के मुताबिक, कुल 36 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को 14960 फोरेंसिक किट उपलब्ध कराई गई हैं। इस किट को मंत्रालय ने यौन हमला साक्ष्य संग्रहण (एसएईसी) नाम दिया है। निर्भया फंड के 2.97 करोड़ रुपये की लागत से ये किट खरीद कर राज्यों को भेजी गई।

दरअसल, लोकसभा में बीते शुक्रवार को एक सांसद ने निर्भया फंड से फोरेंसिक किटों की खरीद को लेकर सवाल किया था। जिसका केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने लिखित में जवाब देते हुए कहा कि महिलाओं की सुरक्षा में सुधार के लिए निर्भया निधि स्थापित की गई है। इस धनराशि का इस्तेमाल एजेंसियों और राज्यों की ओर से होता है।

उन्होंने बताया कि संविधान की सातवीं सूची के तहत पुलिस और कानून व्यवस्था राज्य के विषय हैं। कानून व्यवस्था बनाए रखने, और नागरिकों के जानमाल की सुरक्षा की जिम्मेदारी राज्यों की है। फिर भी, यौन हमलों के मामलों में दक्ष और समयबद्ध ढंग से जांच में राज्यों की मदद करने के लिए निर्भया निधि के तहत 2.97 करोड़ रुपये की लागत से एसएईसी किट उपलब्ध कराए गए हैं।

कोयंबटूर सीट से कम्यूनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया के लोकसभा सांसद पीआर नटराजन के सवाल पर महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने सभी राज्यों को मिले फोरेंसिक किट के बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश को सर्वाधिक 3056, मध्य प्रदेश को 1187, राजस्थान को 1452, पश्चिम बंगाल को 454, झारखंड को 426, हरियाणा को 787, दिल्ली को 483 किट उपलब्ध कराए गए हैं। इसी तरह सभी राज्यों को कुल 14950 यौन हमला साक्ष्य संग्रहण (एसएईसी) किट दिए गए हैं। ताकि यौन हमलों की समय से जांच हो सके।

एनएनएम/एएनएम

.Download Dainik Bhaskar Hindi App for Latest Hindi News.

.

...
Victims of rape will be difficult to avoid, Center has given 14 thousand forensic kits to states
.
.

.

हाईवे पर लूट करने वाले गिरफ्तार – पत्ते खेलने से मना करने पर पीटा 

डिजिटल डेस्क जबलपुर ।  पनागर थानांतर्गत हाईवे पर रात में ठेकेदार के साथ लूट करने वाले दो आरोपी शुक्रवार को पुलिस के हत्थे चढ़ गए। आरोपियों ने 4 सितम्बर की रात चाकू अड़ाकर इमलई निवासी दीनदयाल पटैल की बाइक, मोबाइल व नकदी छह हजार रुपये लूट लिए थे। मामले की जाँच करते हुए पुलिस ने आदतन अपराधियों की कुंडली खँगाली तो बैलहाई बाजार निवासी रवि गोंटिया, 25 वर्ष एवं संतोष पटेल, 35 वर्ष पर शंका हुई। अभिरक्षा में लेकर सख्ती से पूछताछ की तो दोनों ने वारदात करना स्वीकार लिया। रवि व संतोष की निशादेही पर छीनी हुई बाइक, मोबाइल एवं नकदी 2000 रुपये जब्त किये गये हैं। आरोपियों ने शेष 4 हजार रुपये खाने-पीने में खर्च कर देना बताया। पुलिस ने बताया कि दोनों पर पहले से एक दर्जन अपराधिक मामले दर्ज हैं। 
पत्ते खेलने से मना करने पर पीटा 
 माढ़ोताल थानांतर्गत मंगेला में ताश के पत्ते न खेलने पर मारपीट हो गई। ग्राम मंगेला निवासी अजय कोल, 29 वर्ष ने रिपोर्ट दर्ज करायी कि शुक्रवार सुबह 4 बजे उसका जीजा संजू गोटिया घर के बाजू में ही रिन्का काछी, प्रदीप कोल के साथ पत्ते खेल रहा था। बाद में खेलने से मना करने पर रिन्का ने जीजा और उसके साथ मारपीट कर दी।

 

.Download Dainik Bhaskar Hindi App for Latest Hindi News.

.

...
Highway robbers arrested – beaten for refusing to play cards
.
.

.

जेल में बंद माफिया से चैटिंग, महिला के खिलाफ फर्जी मुकदमे…मनचाही पोस्टिंग के खेल में IPS अजयपाल शर्मा पर गंभीर आरोप

एसआईटी ने अपनी जांच में दावा किया है कि अजयपाल शर्मा ने उनकी पत्नी होने का दावा करने वाली महिला के खिलाफ बुलंदशहर और रामपुर में फर्जी मुकदमे दर्ज करवाए। वह जेल में बंद माफिया अनिल भाटी से लगातार वॉट्सऐप पर चैट कर रहे थे। इसके अलावा मनचाही तैनाती के लिए 80 लाख रुपये के लेन-देन की बात भी की।

7 महीने तक किशोरी का शारीरिक शोषण, पॉर्न साइट पर डाले विडियो

पिछले साल अक्टूबर में पीड़िता की मुलाकात आरोपित युवती से हुई। वह किशोरी को बहाने से मोअज्जमनगर चरही स्थित अपने घर ले गई। आरोप है कि वहां युवती ने नशीला पदार्थ खिलाकर एक लड़के से दुराचार करवाया और उसका वीडियो बना लिया।

एनसीबी ने 6 और ड्रग पेडलर पकड़े, डेढ़ किलो मादक पदार्थ बरामद (लीड-1)

मुंबई, 18 सितम्बर (आईएएनएस)। अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले से जुड़े ड्रग एंगल के सिलसिले में मुंबई में मादक पदार्थ के धंधे के खिलाफ अपना अभियान जारी रखते हुए, नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) ने अपनी जांच के तहत छह और ड्रग पेडलर्स को हिरासत में लिया है। एक अधिकारी ने शुक्रवार को यहां यह जानकारी दी।

ठाणे के अलावा मुंबई के पवई और अंधेरी उपनगरों के पॉश इलाकों में भी छापेमारी करते हुए एनसीबी ने चरस और गांजा जैसी कुल 1.433 किलोग्राम ड्रग्स भी बरामद की है।

एक ड्रग आपूर्तिकर्ता अंकुश अरनेजा के बयान के बाद, जिसे 13 सितंबर को गिरफ्तार किया गया था, एनसीबी ने एक शख्स राहिल रफत विश्रा उर्फ सैम के घर पर छापा मारा, जिसने उसे (अरनेजा) चरस की आपूर्ति की थी।

एनसीबी के एक अधिकारी ने कहा, हमने गुरुवार देर रात विश्रा के घर से 928 ग्राम चरस और 4,36,000 रुपये नकद बरामद किए हैं।

अरनेजा के बयान के आधार पर ही एनसीबी ने एक अन्य ड्रग पेडलर रोहन तलवार के घर पर छापा मारकर 10 ग्राम गांजा बरामद किया।

एनसीबी ने बताया कि तलवार से पूछताछ में एनसीबी को एक अन्य शख्स नोगथौंग के बारे में पता चला जिसके पास से 370 ग्राम गांजा बरामद हुआ।

नोगथौंग ने अपने सहयोगी विशाल साल्वे के नाम का खुलासा किया, उसे भी पकड़ लिया गया और एनसीबी ने उसके पास से 110 ग्राम गांजा बरामद किया।

सभी को हिरासत में ले लिया गया है और आगे की जांच जारी है क्योंकि एनसीबी ड्रग्स माफियाओं के साथ बॉलीवुड के कथित सांठगांठ और इससे जुड़े सुशांत की मौत के संभावित लिंक को उजागर करने के प्रयास में लगी हुई है।

पिछले सप्ताहांत एनसीबी ने छह ड्रग पेडलर या आपूर्तिकतार्ओं को गिरफ्तार किया था, जिनमें से एक को गोवा से गिरफ्तार किया गया था और अगले कुछ दिनों में अधिक छापेमारी की संभावना है।

एकेके/आरएचए

.Download Dainik Bhaskar Hindi App for Latest Hindi News.

.

...
NCB caught 6 more drug peddlers, one and a half kg of narcotics recovered (lead-1)
.
.

.

गिरफ्तार साथी को छुड़ाने नक्सली ड़ेढ घंटे तक बरसाते रहे गोलियां

हार्डकोर नक्सली बादल से पूछताछ शुरू, हो सकते हैं बड़े खुलासे
भास्कर फालोअप – गांव में लोगो को बरगलाने पहुंचने की मिली थी जानकारी, मुस्तैदी और त्वरित एक्शन से मिली सफलता
डिजिटल डेस्क बालाघाट ।
जिले के मलाजखंड थाना क्षेत्र अंर्तगत आने वाले ग्राम बांदाटोला में गुरूवार की सुबह गिरफ्तार किये गये इनामी नक्सली बादल से पुलिस टीम ने पूछताछ शुरू कर दी है। मध्यप्रदेश के साथ साथ  छ.ग. में दो दर्जन से अधिक मामलो का वांछित इस 22 वर्षीय नक्सली की पहचान नक्सलियों के विस्तार दलम के प्लाटून 2 एरियां कमेटी मेंम्बर के रूप में हुई है। इस संबंध में शुक्रवार को स्थानीय पुलिस कंट्रोल रूम में आयोजित पत्रकार वार्ता में बालाघाट रेंज के आई.जी. के.पी. वेंकटेश्वर राव, एस.पी. अभिषेक तिवारी ने नक्सली की गिरफ्तारी को लेकर हॉक फोर्स के स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप के अदम्य साहस की सरहना करते हुए, उक्त नक्सली की गिरफ्तारी के संबंध में विस्तार से जानकारी दी।
ऐसे पुलिस के हत्थे चढ़ा बादल
पुलिस अधीाक्षक अभिषेक तिवारी ने बताया की उन्हे पिछले एक सप्ताह से इस तरह की जानकारी मिल रही थी कि विस्तार दलम से जुड़े कुछ हार्ड कोर नक्सली लगातार लोगों को बरगलाने एवं डरा धमकाकर राशन आदि लेने के लिये गांव में आ रहे हंै। अति विश्वस्त स्त्रोत से इस सूचना के मिलने के बाद गुरूवार की सुबह इन नक्सलियों की गिरफ्तारी के लिये हॉक फोर्स के स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप को बांदाटोला भेजा गया था। जहां उन्हे दो संदिग्ध सिविल डे्रस में दिखे, जिनके पास जाने पर वे पुलिस टीम को देखकर भागने लगे। इस दौरान दोनो ने बचने के लिये तालब में छलांग लगा दी। चूंकि दोनो ही नक्सली सिविल डे्रस में थे इसलिये पुलिस ने विशेष सावधानी बरतते हुए उन्हे फायर किये बीना पकडऩे का प्रयास किया। इस दौरान हॉक के 4 जवान भी उनके पीछे तालाब में उतरे, जिन पर बचने के लिये नक्सलियो ने अपने पास रखे पिस्टल नुमा हथियार से एक राऊंड फायर भी किया। इस दौरान एक नक्सली भागने में सफल हो गया, जबकि दूसरा नक्सली बादल जो की दलम का हार्डकोर और इनामी सदस्य है पुलिस की गिरफ्त में आ गया था। जिसे जंगल के रास्ते ही पुलिस टीम पैदल लगभग दो कि.मी. का रास्ता तय करते हुए बैहर की ओर जाने वाली मुख्य सड़क तक लेकर आयी।
अपने साथी को छुड़ाने नक्सलियों ने की जमकर गोलीबारी 
इस ऑपरेशन के दौरान गांव में आये दो साथियो के साथ-उनके आस-पास नक्सलियों का एक बड़ा दलम भी था, जो कि उंचाई से पुलिस की हरकतो पर नजर बनाए हुए था। बकौल पुलिस अधीक्षक इस दलम में लगभग 20 से अधिक नक्सली शामिल थे। जिन्होने अपने साथी को छुड़ाने पुलिस टीम पर लगभग ड़ेढ़ घंटे तक लगातार फायरिंग की। इस दौरान पुलिस टीम की जिम्मेदारी स्वयं को बचाते हुए गिरफ्तार नक्सली को भी सुरक्षित लाने की थी। जिसके लिये पुलिस टीम ने भी जवाबी फायर किये। जिसके बाद पुलिस की टीम बैकअप टीम जो की ए.एस.पी. बैहर के नेतृत्व में मौके पर पहुंची थी के साथ उक्त नक्सली को गिरफ्तार कर लाने में सफल रहे। 
गिरफ्तार नक्सली रिमांड पर पूछताछ मे हो सकते है बड़े खुलासे
प्रेस कांफ्रेस के दौरान बालाघाट रेंज के आई.जी. के.पी. वेेंक्टेश्वर राव ने इस ऑपरेशन के लिये हॉक की टीम की सराहना करते हुए कहा की गिरफ्तार नक्सली पर अकेले छ.ग. के कबीरधाम जिले में ही 17 अपराध दर्ज है। इस तरह के एरियां कमेटी मेम्बर की गिरफ्तारी से पुलिस को नक्सल ऑपरेशन, उनके मूवमेंट एरियां और डम्प सहित नक्सलियों के ऑपरशेन के तौर तरीके और उनकी भविष्य की योजनाओं के संबंध में काफी महत्वपूर्ण जानकारियां मिलने की उम्मीद है। जिसके लिये उक्त नक्सली को रिमांड पर लेकर विस्तार से पुछताछ की जा रही है।

.Download Dainik Bhaskar Hindi App for Latest Hindi News.

.

...
Naxalites keep on firing for half an hour to rescue the arrested partner
.
.

.

गड़ासे से गला रेतकर महिला की हत्या, प्रेमी के हाथ-पैर बांधकर नदी में फेंका

डिजिटल डेस्क सतना। उचेहरा थाना क्षेत्र के बरहटा गांव में बुधवार रात को झोपड़ी में सो रही महिला की दो लोगों ने गला रेतकर हत्या कर दी और उसके दिव्यांग प्रेमी को रस्सी से बांधकर नदी में फेंक दिया। इस सनसनीखेज वारदात से इलाके में हड़कम्प मच गया है। वहीं पुलिस ने जांच-पड़ताल शुरू करते हुए कुछ संदेहियों को हिरासत में ले लिया है। टीआई केके शर्मा ने बताया कि बरहटा निवासी मीना केवट 45 वर्ष बीते एक दशक से पति मूलचन्द्र केवट 50 वर्ष को छोड़कर प्रेमी रामपाल मल्लाह 48 वर्ष के साथ निमहाई घाट के किनारे स्थित खेत पर झोपड़ी बनाकर रहने लगी थी, वह ठेके पर खेत लेकर सब्जियां लगाती थी। हमेशा की तरह महिला और उसका प्रेमी बुधवार रात को भी झोपड़ी में चारपाई पर सो रहे थे, तब लगभग डेढ़ बजे दो अज्ञात लोग आ धमके, जिनमें से एक व्यक्ति अक्सर मीना को बाइक से गांव छोडऩे आया करता था। हमलावरों ने रामपाल को रस्सी में जकड़कर किनारे फेंक दिया और फिर वहां पर रखे गड़ासे से महिला के चेहरे व गले में एक दर्जन से ज्यादा वार करते हुए उसकी हत्या कर दी। मीना को मौत के घाट उतारने के बाद आरोपियों ने उसके प्रेमी को खेत के बगल से निकली नदी में फेंक दिया, रात भर रामपाल वहीं पड़ा रहा। गुरुवार सुबह करीब साढ़े 5 बजे जब गांव के कुछ लोग नदी की तरफ गए तो उनकी नजर अधेड़ पर पड़ी तो उसे बाहर निकाल लिया, तब उसने घटना की जानकारी दी। लिहाजा पुलिस को सूचित कर दिया गया, तब थाना प्रभारी अपनी टीम के साथ घटना स्थल पर पहुंच गए और फॉरेंसिक टीम को भी बुला लिया। साक्ष्य संकलन करने के पश्चात शव को उचेहरा मरचुरी भेजकर पोस्टमार्टम कराया गया। 
एक दशक से रहती थी प्रेमी के साथ
पुलिस ने प्रेमी से पूछताछ की तो पता चला कि मीना के परिवार में पति के अलावा दो बेटियां और एक बेटा है, जिनमें से एक लड़की की शादी हो चुकी है। वहीं दोनों बच्चे पिता के साथ गांव में रहते हैं। लगभग 10 साल पहले महिला उसके सम्पर्क में आई और उनकी नजदीकियां बढ़ गईं तो दोनों लोग गांव से बाहर झोपड़ी बनाकर रहने लगे। प्रेमी ने अपनी लगभग 7 एकड़ जमीन बेंचकर गांव में पक्का घर बनवा दिया तो सब्जी व्यवसाय भी शुरू कराया था। 

.Download Dainik Bhaskar Hindi App for Latest Hindi News.

.

...
Woman murdered by strangulation, tied lover’s hands and feet and thrown into river
.
.

.

माता पिता के साथ सो रही 2 वर्षीय मासूम का तड़के अपहरण

डिजिटल डेस्क जबलपुर । शहपुरा थानांतर्गत ग्राम बिलपठार में गुरुवार तड़के चार बजे घर में सो रही 2 साल की मासूम अचानक गायब हो गई। बिलपठार निवासी रूपलाल चौधरी और लक्ष्मी बाई की 2 साल की बेटी हिमांशी माता पिता के बीच में सो रही थी। माँ लक्ष्मी बाई ने बताया कि देर रात उसकी नजर हिमांशी पर पड़ी थी तो वह गहरी नींद में थी, लेकिन सुबह चार बजे नींद खुली तो हिमांशी बिस्तर पर नहीं मिली। उसे घर में हर जगह तलाश करने के बाद पूरे गाँव में खोजबीन शुरू की लेकिन कहीं कुछ पता नहीं चला। मासूम के अपहरण की खबर से सुबह होते तक पूरे गाँव में कोहराम मच गया और हर कोई बच्ची की तलाश में जुट गए लेकिन उसका कहीं पता नहीं चला। परिजनों ने सुबह ही थाने पहुँचकर पुलिस को सूचना दी। मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी भी सुबह से ही सक्रिय हो गए और डॉग स्क्वॉड की मदद से रेलवे ट्रैक, नर्मदा पुल, सूनसान इलाकों में खोजबीन कराई। मासूम की शाम तक खोजखबर न मिलने पर एसपी सिद्धार्थ बहुगुणा ने मामले की जाँच के लिए एएसपी क्राइम और एएसपी ग्रामीण के नेतृत्व में दो टीम गठित कर दी है, साथ ही अज्ञात आरोपी पर 10 हजार का ईनाम घाषित किया गया है।  जानकारी के अनुसार रूपलाल बुधवार को  पत्नी और बच्ची हिमांशी को लेकर अपनी माँ से मिलने तिलहरी गया था। शाम को रूपलाल पत्नी व छोटी बेटी हिमांशी को साइकिल से वापस घर बिलपठार ले आया था।
फिरौती की आशंका नहीं 
 रूपलाल चौधरी की गाँव में छोटी सी साइकिल पंक्चर बनाने की दुकान है। सभी उसकी आर्थिक स्थिति से वाकिफ हैं, ऐसे में फिरौती के लिए अपरहण की आशंका कम है। पुलिस का मानना है किसी करीबी के ही घटना में लिप्त होने की आशंका है। पुरानी रंजिश सहित अन्य एंगल से मामले की जाँच की जा रही है। जानकारी के अनुसार सुबह जाँच के दौरान पुलिस का डॉग रेलवे ट्रैक से होते हुए नर्मदा पुल के पास तक बार-बार भ्रमित हो रहा था। वहीं रेलवे ट्रैक पर पेट्रोलिंग करने वाले  कर्मचारी ने बताया कि सुबह करीब  4 बजे उसे पुल के पास टॉर्च की रोशनी दिखाई दी थी।
 

.Download Dainik Bhaskar Hindi App for Latest Hindi News.

.

...
Kidnapping of 2-year-old innocent sleeping with parents
.
.

.

सतना – लॉकर ने भी उगले कई राज -पुलिस के हाथ लगे धर्म परिवर्तन, शादी और तलाक के सबूत 

डिजिटल डेस्क सतना। नाबालिग छात्रा को शादी के झांसा देकर सवा 2 साल से उसका यौन शोषण करने के आरोप में गिरफ्तार 40 साल के आरोपी अतीक मंसूरी उर्फ सिकंदर उर्फ समीर खान के बैंक लॉकर ने भी उसके गुनाहों के कई राज उगले हैं। लॉकर से पुलिस के हाथ लगे साक्ष्य बताते हैं कि बेहद शातिर किस्म के इस आरोपी ने वर्ष 2011 में शादी के लिए धर्म परिवर्तन कर अपना नाम समीर रख लिया था, लेकिन इसके बाद भी उसने अपनी चल-अचल संपत्तियां और अन्य दस्तावेज (पैनकार्ड,पासपोर्ट,वोटर आईडी,ड्राइविंग लाइसेंस ऋण पुस्तिकाएं) अतीक खान के नाम पर ही बनवा रखे थे। वर्ष 2017 में उसकी शादी टूट गई थी। इसके बाद उसने सवा 2 साल पहले एक नाबालिग छात्रा को शादी का झांसा देकर अपने चंगुल में फंसाया।और उसका यौन शोषण करने लगा। छात्रा ने जब अन्य लड़कियों के साथ भी उसके ऐसे ही नाजायज रिश्ते देखे तो वह विरोध करने लगी। विरोध पर जब अतीक के जुल्म की इंतहा हुई तो छात्रा अंतत: 11 सिंतबर की रात कोलगवां थाने पहुंच गई।  
आईजी के अनुसार आरोपी बादल के कब्जे से एक वॉकी टॉकी बरामद किया गया है। उसके पास पिस्टल भी थी, जो तालाब में गिर गई है। उसकी तलाश की जा रही है। वहीं उसके अन्य साथी के बारे में पूछताछ जारी है। बादल की गिरफ्तारी के बाद नक्सलियों की की 25 से 30 लोगों की टीम ने पुलिस पर फायरिंग शुरू कर दी। नक्सलियों ने करीब एक किलोमीटर तक पीछा कर पुलिस पर 70 से 80 राउंड फायरिंग की। बादल से पूछताछ जारी है। 
सीडियों में आखिर क्या 
पुलिस अधीक्षक रियाज इकबाल ने बताया कि  आरोपी अतीक खान के यहां रीवा रोड स्थित आईडीबीआई बैंक स्थित लॉकर (नंबर-जी-3/60) से  एसआईटी को दिल्ली के आर्य समाज से 19 नवंबर 2011 को जारी धर्म परिवर्तन शुद्धिकरण प्रमाण पत्र , हिंदू विवाह प्रमाण पत्र और वर्ष 2017 को कुंटुम्ब न्यायालय सतना से पारित विवाह विच्छेद आदेश की प्रति मिली है। लॉकर से 70 हजार की नकदी के अलावा  प्रचलन से बाहर हो चुके 40 पुराने नोट, 7 सीडी, एक फोटो निगेटिव का टुकड़ा, पन्ना जडि़त अंगूठी, साइबर कैफे का पंजीयन प्रमाणपत्र, तिघरा में भूमि के स्वामित्व संबंधी ऋण पुस्तिका और आरोपी के ही नाम की 2 जमीनों की रजिस्ट्रियां भी मिली हैं। 
 सूदखोरी के कुछ और सबूत भी मिले :-
आरोपी अतीक मंसूरी उर्फ समीर खान के इसी बैंक लॉकर से 8 कोरे स्टांप पेपर के साथ बड़ी संख्या में दूसरों के हस्ताक्षर से जारी कोरे चेक , पैसे के लेन-देन के 3 अनुबंध पत्र, अलग -अलग पतों के 2 वोटर आईडी कार्ड , एक आधारकार्ड, कार और स्कूटर के वाहन रजिस्ट्रेशन कार्ड, भारी मात्रा में दूसरे दूसरे लोगों की पहचान पत्र के फोटो कापियां और कुछ कोरे इंदुल तलब रुक्का भी जब्त किए गए हैं। इससे साफ है कि आरोपी ने कर्ज के एवज में कर्जदारों से बतौर गारंटी या तो कोरे स्टांप पर दस्तखत लिए थे या फिर उसने कोरे चेक पर दस्तखत कराकर लॉकर में छिपा रखे थे। सूदखोरी की शिकायत पर आरोपी के खिलाफ हाल ही में 2 नए केस रजिस्टर्ड किए गए हैं। 

.Download Dainik Bhaskar Hindi App for Latest Hindi News.

.

...
Satna – Locker also sprouts evidence of conversion, marriage and divorce in the hands of many royal-police
.
.

.

गैस कटर से एटीएम मशीन काटकर साढ़े पांच लाख उड़ाए

पन्ना तिराहे में हुई वारदात, पुलिस खंगाल रही सीसी टीव्ही कैमरों की फुटेज
डिजिटल डेस्क कटनी ।
कुठला थानांतर्गत पन्ना तिराहे में स्थित एटीएम को चोरों ने निशाना बनाया और गैस कटर से मशीन काटकर साढ़े पांच लाख रुपए पार कर दिया। घटना की सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची और मुआयना आदि करने उपरांत बदमाशों की तलाश शुरू कर दी है लेकिन अभी तक पुलिस के हाथ सुराग नहीं लगे हैं। पुलिस एटीएम के आस-पास लगे सीसी टीव्ही कैमरों की फुटेज भी खंगाल रही है।
बदमाशों की तलाश में जुटी पुलिस
जानकारी अनुसार कुठला थानांतर्गत व्यस्ततम तिराहा माने जाने वाले पन्ना मोड़ स्थित आईडीबीआई बैंक के एटीएम काऊंटर में 16 सितंबर की रात अज्ञात बदमाशों ने धावा बोला और गैस कटर से एटीएम मशीन काट कर उसके अंदर से कैश लेकर चम्पत हो गए। घटना की जानकारी लगते ही थाना प्रभारी विपिन सिंह, एफएसएल अधिकारी डॉ. अवनीश सिसोदिया, बस स्टैंड चौकी प्रभारी सिद्धार्थ राय, फिंगर प्रिंट एक्सपर्ट व डॉग स्क्वॉयड के साथ घटना स्थल पर पहुंचे और मौके का बारीकी से निरीक्षण किया लेकिन ऐसे कोई सुराग नहीं मिले जिनकी मदद से चोरों तक पुलिस पहुंच सके।
एटीएम में मौजूद नहीं था गार्ड
थाना प्रभारी ने बताया कि बैंक प्रबंधन से जानकारी लेने पर बताया गया कि एटीएम में 5 लाख 55 हजार रुपए कैस थे जो बदमाशों ने पार कर दिया। खास बात यह थी कि एटीएम में गार्ड मौजूद नहीं था जिसका फायदा उठाते हुए चोरों ने बेखौफ होकर वारदात को अंजाम दिया। पुलिस के अनुसार बदमाशों ने गैस कटर की सहायता से एटीएम मशीन काटा और रकम लेकर चंपत हो गए। पुलिस आरेापियों की पतासाजी में जुटी है।
लापरवाही का उठाया फायदा
उल्लेखनीय है कि कुछ समय पूर्व दैनिक भास्कर ने शहर के एटीएम सेंटरों का रियल्टी चेक किया था जिस दौरान अधिकांश एटीएम गार्ड से विहीन पाए गए थे। इसकी खबर प्रमुखता से प्रकाशित की गई थी। एटीएम में कोई गार्ड न होने से वहां कभी भी असमाजिक तत्व चोरी आदि वारदातों को अंजाम दे सकते हैं इस बात को गंभीरता से लेने की बजाय जिम्मेदार अधिकारी उदासीनता की बरत रहे हैं और इसी लापरवाही का फायदा बदमाशों ने आखिर उठा ही लिया।

.Download Dainik Bhaskar Hindi App for Latest Hindi News.

.

...
ATM machine blows five and a half million by cutting gas machine
.
.

.